हिन्दू हित की बात करने वालों ने ही प्रवीण तोगड़िया को ठिकाने लगाया ?

वीएचपी नेता प्रवीण तोगड़िया को बड़ा झटका लगा है. अध्यक्ष पद पर उनके गुट के प्रत्याशी की हार हो गई है. इस तरह वीएचपी में तोगड़िया युग का अंत हो गया है. अब तिलमिलाए तोगड़िया ने भी वीएचपी छोड़ने और 17 अप्रैल से अनशन शुरू करने का एलान कर दिया है. तोगड़िया की नाराजगी के बावजूद हिमाचल प्रदेश के पूर्व राज्यपाल वीएस कोकजे (विष्णु सदाशिव कोकजे) को वीएचपी का नया अंतरराष्ट्रीय अध्यक्ष चुना गया.

तोगड़िया के करीबी को मिले 60 वोट

कोकजे ने तोगड़िया के करीबी माने जाने वाले राघव रेड्डी को हराया. कोकजे अब तोगड़िया की जगह लेंगे. अंतरराष्ट्रीय अध्यक्ष चुनने के लिए 192 लोगों ने वोट डाले, जिसमें से 131 वोट कोकजे के पक्ष में और 60 वोट राघव रेड्डी के पक्ष में पड़े. वहीं एक वोट अवैध करार दिया गया.

कुछ लोगों ने स्वार्थ के लिए विचारधारा की बलि चढ़ाई: तोगड़िया

तोगड़िया ने कहा, ”भारत में हिंदुओं के रामराज की स्थापना, किसानों की कर्जामुक्ति, सस्ती गुणवत्ता युक्त शिक्षा, सभी युवाओं को रोजगार, महिला सुरक्षा, सीमा सुरक्षा, छूआछूत मुक्त भारत, मजदूरों के हितों की रक्षा, सभी के लिए उत्तम स्वास्थ्य सेवा जैसे मुद्दे पर सभी पर कार्यकर्ता निष्ठा से जुट जाएंगे. सभी हिंदुओं से निवेदन है कि अब सुरक्षित हिंदू समृद्ध की ओर बढ़ें.’’ उन्होंने कहा कि कलियुग में कुछ लोगों ने स्वार्थ में विचारधारा की बलि चढ़ाई है तो भी हम हमारे संस्कार नहीं छोड़ सकते.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *