पीएम नरेंद्र मोदी ने किया स्टैच्यू ऑफ यूनिटी का अनावरण, जानदार, शानदार अपने सरदार

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज 31 अक्टूबर को देश को एक ऐसा तोहफा दिया जिससे देश का सर और ऊंचा हो गया। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी यहां बुधवार को सरदार वल्लभ भाई पटेल की 182 मीटर ऊंची प्रतिमा का अनावरण किया। इससे पहले मोदी ने 30 नदियों के जल से प्रतिमा के पास स्थित शिवलिंग का अभिषेक किया। 30 ब्राह्मणों ने मंत्रोच्चार किया। सरदार सरोवर पर बनी सरदार की प्रतिमा ‘स्टैच्यू ऑफ यूनिटी’ दुनिया में सबसे ऊंची है।

स्टैच्यू ऑफ यूनिटी के लोकार्पण के लिए गंगा, यमुना, सरस्वती, गोदावरी, नर्मदा, ताप्ती, सिंधु, कावेरी, करजण, सरयू, ब्रह्मपुत्र समेत 30 छोटी-बड़ी नदियों का जल लाया गया। स्टैच्यू ऑफ यूनिटी के अनावरण समारोह में देश के 33 राज्यों की संस्कृति की झलक दिखाई दी। यूनिटी वॉल से स्टैच्यू ऑफ यूनिटी तक सवा दो किमी लंबे मार्ग पर 900 कलाकारों ने खड़े होकर प्रधानमंत्री का स्वागत किया

आपको बता दें की यह प्रतिमा देश ही नही विदेश मे भी लगे प्रतिमाओं से ऊंची हैं। इस प्रतिमा को पास से देखने के लिए 500 रुपए देने पड़ेगे वही कुछ दूरी से देखने के लिए 300 रुपए अदा करने होंगे। वहीं मोदी ने गुजरात के मुख्यमंत्री रहते हुए 2003 में इस प्रोजेक्ट को मंजूरी दी थी। इस परियोजना पर 2013-14 में काम शुरू हुआ था। इस काम के लिए जहां प्रधानमंत्री ने किसान, मजदूर इत्यादि लोगो से अनुरोध किया था की घर में बेकार पड़े लोहे को इस प्रतिमा को बनाने के लिए दान दें। आपको बता दें की देश के हर हिस्से से नये भारत के निर्माण के लिए हर जगह से लोहेे, मिट्टी से इस की नींव बनी। मोदी के प्रधानमंत्री बनने के बाद फूलों की घाटी के निर्माण कार्य में तेजी आई है। गुजरात सरकार ने इसके लिए 12 करोड़ रुपए का बजट मंजूर किया है।

आप भी जाने क्या है इस स्टैच्यू ऑफ यूनिटी की खासियत

  • नर्मदा नदी पर बने सरदार सरोवर बांध पर बनी यह मूर्ति सात किलोमीटर दूर से नजर आती है। यह दुनिया की सबसे ऊंची प्रतिमा है। इससे पहले चीन की स्प्रिंग बुद्ध सबसे ऊंची प्रतिमा थी। इसकी ऊंचाई 153 मीटर है। इसके बाद जापान में बनी भगवान बुद्ध की प्रतिमा का नंबर आता है जो 120 मीटर ऊंची है। तीसरे नंबर पर न्यूयॉर्क की 93 मीटर ऊंची स्टैच्यू ऑफ लिबर्टी है।
  • 2021 में भारत सरदार पटेल से भी ऊंची प्रतिमा बना लेगा। 212 मीटर ऊंची छत्रपति शिवाजी की यह प्रतिमा मुंबई के पास अरब सागर में बन रही है।
  • स्टैच्यू ऑफ यूनिटी के निर्माण में पांच साल का वक्त लगा। सबसे कम समय में बनने वाली यह दुनिया की पहली प्रतिमा है। लागत 2990 करोड़ रुपए है।
  • स्टैच्यू ऑफ यूनिटी को सिंधु घाटी सभ्यता की समकालीन कला से बनाया गया है। इसमें चार धातुओं के मिश्रण का इस्तेमाल किया गया है। इससे इसमें बरसों तक जंग नहीं लगेगी। स्टैच्यू में 85% तांबा इस्तेमाल हुआ है।
  • स्टैच्यू में लगी लिफ्ट से पर्यटक प्रतिमा के हृदय तक जा सकेंगे। यहां से लोग सरदार सरोवर बांध के अलावा नर्मदा के 17 किमी लंबे तट पर फैली फूलों की घाटी का नजारा देख सकेंगे।
  • प्रतिमा में सरदार के चेहरे की बनावट तय करने के लिए दस लोगों की कमेटी बनाई गई थी। सभी की सहमति के बाद 30 फीट का चेहरा बना गया। इसे 3डी तकनीक से तैयार किया गया है।
  • पटेल की प्रतिमा के होंठ, आंखें और जैकेट के बटन 6 फीट के इंसान के कद से बड़े हैं। इसमें 70 फीट लंबे हाथ हैं, पैरों की ऊंचाई 85 फीट से ज्यादा है। इसे बनाने में 3400 मजदूरों और 250 इंजीनियरों ने लगभग 42 महीने काम किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: