कैसे हुआ था इकोनॉमिक्स का पेपर लीक ?

सीबीएसई पेपर लीक मामले में दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच ने बाहरी दिल्ली से एक कोचिंग सेंटर के मालिक और दो स्कूल टीचर को गिरफ्तार किया है. इनपर आरोप है कि स्कूल के छात्रों को अच्छे नंबर दिलवाने के लिए पेपर लीक किये. गिरफ्तारी सिर्फ इकनॉमिक्स पेपर को लेकर हुई है.

दिल्ली पुलिस के स्पेशल सीपी ने बताया कि दो तरह से पेपर लीक हुए, एक हैंड रिटेन और एक प्रिंटग फर्म से. 12 वीं का इकोनॉमिक्स का पेपर करीब आधे घंटे पहले लीक किया गया. गिरफ्तार दोनों स्कूल टीचर ऋषभ और रोहित ने पेपर की फोटो खींच कर कोचिंग मालिक/टीचर तौकीर को भेजी.

ऋषभ और रोहित ने इकोनॉमिक्स का पेपर समय से पहले खोलकर तौकीर को भेजा जो बवाना में टीचर हैं. तौकीर ने इकोनॉमिक्स का फोटो क्लिक करके अपने बच्चों को जिन्हें ट्यूशन पढ़ाता है उन्हें दिया. यहीं से संभवत: पेपर व्हाट्सएप पर वायरल हो गया.

पुलिस ने कल बताया था कि सीबीएसई पेपर लीक मामले में 60 से अधिक लोगों से पूछताछ की जा चुकी है जिसमें 53 छात्र शामिल हैं लेकिन मामले में कोई ‘बड़ी सफलता’ हासिल नहीं हुई. पुलिस पेपर लीक के सिलसिले में छह व्हाट्सएप ग्रुप की भी जांच कर रही है. पुलिस की कार्रवाई के बीच देशभर में सीबीएसई छात्रों का प्रदर्शन जारी है. छात्र दोबारा परीक्षा कराए जाने के फैसले का विरोध कर रहे हैं.

स्त्रोत – एबीपी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: